• September 26, 2022
images 6
0 Comments

संसार में धर्म की स्थापना और अत्याचारियों के विनाश के लिए ईश्वर ने समय-समय पर कई अवतार लिए हैं। उन्ही अवतारों में से एक है भगवान विष्षु का श्रीकृष्ण अवतार। श्री कृष्ण ने ये अवतार द्वापर युग में लिया था। इस युग में उन्होंने ऐसी लीलाएं रचीं, जिसमें मनुष्य की हर समस्या का समाधान मौजद है। इसी अवतार में उन्होंने गीता का उपदेश भी दिया, जो जीवन को सरल तरीके से जीने की शिक्षा देती है। संसार को सही युद्ध नीति समझाने के लिए एक बार तो वो रणभूमि भी छोड़कर भाग गए, जिसकी वजह से उनका नाम रणछोड़ पड़ गया। इसी सप्ताह भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव भी मनाया जाएगा। तो आइये इसी खास अवसर पर आपको उस कहानी के बारे में बताते हैं, जिसकी वजह से उन्हें ‘रणछोड़’ कहा जाता है।

यह भी पढ़े   कैसा रहेगा आज का दिन? जानिए

Krishna Balaram 123

पौराणिक कथा-

द्वापर युग में मगध के राजा जरासंध ने भारत के कई राजाओं को युद्ध में पराजित कर उन्हें बंदी बना लिया था। उसकी इच्छा थी कि बंदी राजाओं की संख्या सौ होने पर वो यज्ञ का आयोजन करेगा जिसमें वो पशुओं के स्थान पर राजाओं की बलि देगा। इसी क्रम में उसने श्रीकृष्ण को भी युद्ध के लिए ललकारा था। उसने श्रीकृष्ण के विरुद्ध युद्ध के लिए यवन देश के राजा कालयवन, जिसे भगवान शंकर से अपराजित होने का वरदान मिला था, को भी अपने साथ कर लिया। इसके बाद दोनों ने मिलकर मथुरा पर आक्रमण कर दिया। कृष्ण को ये ज्ञात था कि वरदान के कारण वो कालयवन का कुछ नहीं बिगाड़ सकते, इसलिए वो युद्ध भूमि छोड़ कर भाग गए और एक ऐसी अंधेरी गुफा में जा कर छिप गए, जहां दक्षिण कोसल के राजा मुचकुंद गहरी निद्रा में लीन थे। असुरों के साथ कई दिनों तक चले युद्ध के कारण वो थक गए थे, जिसकी वजह से इंद्रदेव से उन्होंने एक लंबे विघ्नरहित विश्राम का वरदान मांगा था।

यह भी पढ़े   Solar Eclipse 2021 : 2021 का पहला सूर्यग्रहण 10 जून को लगेगा, इन दिन बन रहे है कई योग

krishna and arjuna 33 201906100300

वरदान स्वरूप उन्हें ये आशीर्वाद प्राप्त हुआ कि अगर कोई व्यक्ति उनकी नींद में खलल डालेगा तो वो जलकर भस्म हो जाएगा। कालयवन श्रीकृष्ण का पीछा करते हुए गुफा तक पहुंच गया। श्रीकृष्ण ने सोते हुए मुचकुंद पर अपना पीताम्बर डाल दिया। कालयवन ने उन्हें श्रीकृष्ण समझ कर मुचकुंद की नींद भंग कर दी। इसके बाद मुचकुंद के जागते ही वो वहीं जलकर भस्म हो गया। इसी घटना के बाद श्रीकृष्ण को रणछोड़ कहा जाने लगा। दरअसल, अपनी इस लीला से ये संदेश देना चाहते थे, कि युद्ध में अस्त्रों-शस्त्रों के बल पर जीतना ही आवश्यक नहीं होता, बल्कि चतुराई से लड़ा जाने वाला युद्ध भी उतना ही महत्वपूर्ण होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.