• October 6, 2022
photo 2022 01 23 06 52 55
0 Comments

Short info :– आपको बता दें कि आज देश में महान स्वाधीनता सेनानी एवं आजाद हिन्द फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती मनाई जा रही है।

चारों तरफ उन्हें श्रद्धांजलि देने की प्रक्रिया जारी है। वहीं आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र  PM मोदी 23 जनवरी यानी आज शाम इंडिया गेट पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण करेंगे।

बाद में इस होलोग्राम प्रतिमा की जगह ग्रेनाइट से बनी भव्य प्रतिमा भी स्थापित की जाएगी। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की

आज शाम 6 बजे पीएम करेंगे प्रतिमा का अनावरण :-

प्रधानमंत्री PM मोदी ने बीते दिन घोषणा की थी कि, देश के महान सपूत सुभाषचंद्र बोस के प्रति आभार के प्रतीक के रूप में इंडिया गेट पर उनकी ग्रेनाइट की एक प्रतिमा लगाई जाएगी।

ग्रेनाइट से बनी यह प्रतिमा हमारे स्वतंत्रता संग्राम में नेताजी के अपार योगदान को ध्यान में रखते हुए, उन्हें राष्ट्र की ओर से श्रद्धांजलि और नेताजी के प्रति देश की कृतज्ञता का प्रतीक भी होगी।

photo 2022 01 23 06 53 05

PM मोदी

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, प्रतिमा का काम पूरा होने तक नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा ठीक उसी स्थान पर लगाई जाएगी। जहां प्रधानमंत्री PM मोदी आज शाम लगभग 6 बजे इंडिया गेट पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण करेंगे।

यह भी पढ़े   PM Kisan yojana : पीएम किसान योजना में अब होने वाला है ये बड़ा बदलाव, जानिये 12 करोड़ किसान कैसे हो सकते है इससे प्रभावित

पीएम मोदी ने किया था ट्वीट :-

बीते दिन पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा था, ऐसे समय में जब पूरा देश नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती मना रहा है।

मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है। कि ग्रेनाइट से बनी उनकी भव्य होलोग्राम प्रतिमा इंडिया गेट पर लगाई जाएगी। यह उनके प्रति भारत के ऋणी होने का प्रतीक होगा।

और साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इंडिया गेट पर 6 दशक से खाली पड़ी एक छतरी में नेताजी की प्रतिमा लगाई जाएगी। सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा उस छतरी में लगेगी,जहां पहले जॉर्ज पंचम की मूर्ति लगी थी। जार्ज पंचम की प्रतिमा को 1968 में हटा दिया गया था, तब से यह छतरी खाली ही है।

और अब 23 जनवरी से शुरू होगा गणतंत्र दिवस समारोह

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिवस को पराक्रम दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। सरकार ने ऐलान किया था कि, गणतंत्र दिवस समारोह की शुरुआत अब 24 जनवरी की बजाय 23 जनवरी से होगी।

यह फैसला नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन को गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल करने के उद्देश्य से किया गया। नेताजी का जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था।

यह भी पढ़े   Best Balenciaga shoes : इन फटे हुए जूतों की कीमत देखकर हो जाओगे हैरान देखे Balenciaga shoes price

ये प्रतिमा उसी स्थान पर लगाई जाएगी जहां कभी लाल संगमरमर की छतरी के नीचे सम्राट जार्ज पंचम की प्रतिमा हुआ करती थी।

ये प्रतिमा 1968 तक इंडिया गेट पर लगी रही थी अर्थात देश के आजाद होने के दो दशकों तक जॉर्ज पंचम की प्रतिमा लाल छतरी के अंदर लगी रही थी।

आज PM मोदी ने ट्वीट कर कहा कि देशभर में इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए जो उत्साह देखने को मिल रहा है,उससे वो काफी अभिभूत है।

क्या कहा पीएम मोदी ने?

PM मोदी ने ट्वीट कर कहा, “आज शाम 6 बजे इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा के अनावरण के प्रति अपार उत्साह देखकर मुझे खुशी हो रही है। इसी कार्यक्रम में ‘सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार’ भी प्रदान किए जाएंगे।

इस ट्वीट में उन्होंने एक प्रेस रिलीज भी जारी की है। इस प्रेस रिलीज में PM मोदी और गृह मंत्री अमित शाह नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित करने से संबंधित जानकारी विस्तार से दी गई है।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का नाम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा गया है। उनका जन्म 23 जनवरी 1897 को ओडिशा के कटक में एक संपन्न बांग्ला परिवार में हुआ था। उन्होंने देश की आजादी में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

यह भी पढ़े   Google Mera Naam Kya Hai अब गूगल आपका नाम बताएँ, जानिए यह तरीका

Conclusion :-

तो यह था नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 150वीं जयंती पर नरेंद्र मोदी का ऐलान जो कि सभी देशवासियों को PM मोदी ने टि्वटर अकाउंट के जरिए सूचित किया था।

जो कि काफी अच्छा लगा सभी भारतीयों को उनका यह ऐलान जिसमें कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की हेलो ग्राम प्रतिमा का आना वर्णन दिया गया।

उनके 150 जयंती पर यह एक आने वाले समय के लिए इतिहास ही हो सकता है। उनकी यह भव्य प्रतिमा आशा है। कि आप कोई आर्टिकल पसंद आया होगा आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज अपना एक छोटा सा कमेंट हमें जरूर करें हमें काफी खुशी मिलेगी।

यह भी पढ़े :-क्यों सूरज फटते ही दुनिया खत्म हो जाएगी। 5 अरब वर्ष बाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.