• November 29, 2022
डेंगू से 3 ओर मौत
0 Comments

डेंगू से 3 ओर मौत, इस सीजन में डेंगू का खतरा अधिक बढ़ जाता है और वायरल फीवर भी गंभीर रूप धारण कर लेता है। और प्लेटलेट्स तेजी से गिरने लगती है और समय पर इलाज न मिलने से मरीज की मौत हो सकती है।

डेंगू से 3 ओर मौत :-आपको बता दे पानीपत में संदिग्ध बुखार और प्लेटलेट्स कम होने पर दो दिन में एक किशोर और दो बच्चों की जान चली गई। जानकारी के लिए बता दे की पानीपत निवासी 17 वर्षीय वीरेंद्र की गुरुवार तो भैंसवाल मोड़ निवासी सात वर्षीय रूबी और नांगलखेड़ी निवासी 11 वर्षीय खुशी की शुक्रवार को मौत हो हुई।

तीनों अस्पताल में उक्त समय से भर्ती थे और उपचार चल रहा था। वही परिजन अपनी मर्जी से बिना पोस्टमार्टम कराए और अपने बच्चों के शवों को ले गए। 

डेंगू से 3 ओर मौत
डेंगू से 3 ओर मौत

मर्तक वीरेंद्र मूलरूप से बिहार का रहने वाला था। वीरेंद्र को कई दिनों से बुखार था। जिसके बाद परिजन तीन दिन पहले नागरिक अस्पताल में लेकर आए थे। इसी प्रकार रूबी भी तीन दिन से बुखार से पीड़ित थी। परिजनों ने निजी अस्पताल में उसका इलाज कराया जा रहा था लेकिन आराम नहीं हुआ।

यह भी पढ़े   कृष्णा अभिषेक ने छोड़ा कपिल शर्मा शो , बताया ये कारण

रूबी को गुरुवार शाम को परिजन उसे नागरिक अस्पताल में लेकर आए थे। वही खुशी को भी बुखार था और लगातार उसकी प्लेटलेट्स गिर रही थी। इमरजेंसी वार्ड में तैनात डॉ. जसमीन कौर ने वार्तालाप में बताया कि जब बच्चों को सिविल अस्पताल लाया गया था। तब वे बुखार से ग्रस्त थे। इसके बाद इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। और परिजन अपनी मर्जी से बिना पोस्टमार्टम कराए ही बच्चो केशवों को ले गए।  

वायरल फीवर भी गंभीर: डॉक्टर

डॉक्टरों की माने तो इस सीजन में डेंगू का खतरा काफी बढ़ जाता है और नार्मल वायरल फीवर भी गंभीर रूप धारण कर लेता है। ऐसे में देखते ही देखते प्लेटलेट्स तेजी से गिरने और समय पर इलाज की सुविधा न मिलने से मरीज की मौत हो सकती है। ऐसे में डॉक्टरों ने लोगों से बुखार होने पर लापरवाही न करने और चिकित्सकीय जांच कराकर तुरंत प्रभाव से परामर्श लेने की अपील की है। 
 
शहर के 130 अस्पतालों की ओपीडी आठ हजार से अधिक- डेंगू से 3 ओर मौत

यह भी पढ़े   जहर खाने से महिला की मौत, उसके पति, सास और ससुराल वालों पर केस दर्ज हुआ

फिलहाल इस समय शहरवासी वायरल फीवर की चपेट में आ चुके हैं। बहुत से घर में बुखार के रोगी हैं। अगर पानीपत की बात करे तो शहर के 130 निजी अस्पतालों में प्रतिदिन की ओपीडी आठ हजार से अधिक मरीज आ रहे है।

सिविल अस्पताल में रोजाना बुखार खांसी और जुकाम की ओपीडी 300 से अधिक मरीज आ रहे है। केवल सिविल अस्पताल में 40-50 डेंगू के टेस्ट रोजाना हो रहे हैं। पानीपत जिले में अब तक डेंगू के 169 कंफर्म केस हो चुके हैं। लगातार डेंगू का कहर बढ़ता जा रहा है ऐसे में बुखार होने पर लापरवाही न करने और चिकित्सकीय जांच कराकर तुरंत प्रभाव से परामर्श लेने की अपील है। 

Author

newshutrewari@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.