• October 6, 2022
100867 rupees
0 Comments

सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा ने MCLR में बढ़ोतरी की है. इस बढ़ोतरी के कारण कार लोन, होम लोन, पर्सनल लोन पर ज्यादा इंट्रेस्ट रेट लगेगा. नतीजन वर्तमान ग्राहकों की ईएमआई बढ़ जाएगी. दोनों बैंकों ने एमसीएलआर दरों में 0.10 फीसदी तक की वृद्धि कर दी है. नई दर 10 सितंबर से प्रभावी है. आईओबी ने एक नियामकीय सूचना में कहा कि तमाम राशि खंडों में अपनी एमसीएलआर दरों में 0.10 फीसदी तक की वृद्धि की गई है.

100867 rupees

शनिवार से नई दर प्रभावी

शनिवार से नई दर के लागू होने से उपभोक्ताओं के लिए कर्ज लेना महंगा हो जाएगा. एमसीएलआर में बढ़ोतरी होने से सभी तरह के कर्ज महंगे हो जाएंगे. इनमें कार, व्यक्तिगत और होम लोन शामिल हैं. एक-वर्षीय एमसीएलआर अब 7.75 फीसदी जबकि दो साल एवं तीन साल का एमसीएलआर 7.80 फीसदी हो गया है. ओवरनाइट एमसीएलआर अब 7.05 फीसदी हो गया है. एक महीने की अवधि वाले लोन पर एमसीएलआर 7.15 फीसदी, तीन और छह महीने अवधि वाले लोन के लिए एमसीएलआर 7.70 फीसदी हो गया है.

यह भी पढ़े   SBI कस्टमर्स के लिए खबर! बैंक ने लॉन्च की नई SMS सर्विस, अब सेकेंड्स में चेक करें FASTag बैलेंस

images 1

बैंक ऑफ बड़ौदा ने भी इंट्रेस्ट रेट बढ़ाया

बैंक ऑफ बड़ौदा ने भी एक-वर्षीय एमसीएलआर को बढ़ाकर 7.80 फीसदी कर दिया है. पहले यह 7.70 फीसदी था. छह महीने का एमसीएलआर अब 7.65 फीसदी हो गया है जो पहले 7.55 फीसदी था. तीन महीने का एमसीएलआर 7.50 फीसदी हो गया है जो पहले 7.45 फीसदी था. बैंक ऑफ बड़ौदा ने कहा कि नई ब्याज दरें 12 सितंबर से प्रभावी होंगी.

HDFC Bank ने भी एमसीएलआर में बढ़ोतरी की है

इसी सप्ताह प्राइवेट सेक्टर के HDFC Bank ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR) बढ़ाने का फैसला किया. बैंक ने हर टेन्योर के लिए MCLR में 10 बेसिस पॉइंट या 0.10% की बढ़ोतरी की है. MCLR की दरें बढ़ने का मतलब है कि मार्जिनल कॉस्ट से जुड़े लोन जैसे- होम लोन, व्हीकल लोन वगैरह पर ब्याज दरें बढ़ जाती हैं. HDFC के रेट हाइक से नए और पुराने ग्राहकों के लिए ईएमआई पर ब्याज दरें और महंगी हो जाएंगी. यह बढ़ोतरी फ्लोटिंग इंटरेस्ट रेट पर लागू होती है, फिक्स्ड इंटरेस्ट रेट पर नहीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.