• November 29, 2022
rt
0 Comments

Short info :– आपको बता दें कि एलन मस्‍क की कंपनी ब्रेन-चिप रिसर्च पर जोर शोर से जुटी है।और न्‍यूरालिंक जल्‍द ही इंसानी दिमाग पर परीक्षण शुरू करने की तैयारी कर रहा है।मस्क ने दावा किया जिसमें  दिमाग में चिप

कि छोटी सी ब्रेन चिप इंसान की जिंदगी में कई तरह के बदलाव लेकर आएगी दुनिया के सबसे अमीर इंसान एलन मस्‍क का ब्रेन-चिप रिसर्च वाला स्‍टार्टअप न्‍यूरालिंक जल्‍द ही

इंसानी परीक्षण शुरू करने की तैयारी कर रहा है,आपको बता दें कि इस चिप की मदद से पैरालसिस से पीड़ित इंसान अपने दिमाग से उंगलियों से ज्‍यादा तेज गति से स्‍मार्टफोन चला सकेगा।

न्यूरालिंक इससे पहले सूअर और बंदर पर इस चिप को आजमा जा चुका है। 9 साल के बंदर में चिप लगाई गई थी जिससे वो केवल माइंड से वीडियो गेम खेल पा रहा था।

जिसकी स्टार्टअप एलन मस्क ने इस स्टार्टअप को 2016 में सैन फ्रांसिस्को बे एरिया में शुरू किया था। इसके जरिए अल्जाइमर, डिमेंशिया और रीढ़ की हड्डी की चोटों जैसे न्यूरोलॉजिकल,

This image has an empty alt attribute; its file name is image-59.png

अब इंसान के दिमाग में चिप

समस्याओं का इलाज करने में मदद करने के लिए मानव मस्तिष्क में एक कंप्यूटर इंटरफेस को प्रत्यारोपित करने का लक्ष्य है। आपको बता दें कि ये स्टार्टअप टेक्नोलॉजी का यूज करके ह्यूमन-AI सिम्बायोसिस बनाने की कोशिश कर रही है।

यह भी पढ़े   Haryana School:-हरियाणा में खुलने जा रहे है कक्षा पहली से पाँचवीं तक के स्कूल, अगस्त मे खुलेंगे स्कूल

पिछले महीने एलन मस्‍क ने कहा था कि ह्यूमन पर इसका अर्ली ट्रायल 2022 में शुरू होगा मस्‍क का कहना है,इसके जरिए हमारे पास किसी ऐसे व्यक्ति को ताकत देने का मौका है,जो कि चल फिर नहीं सकता है। या फिर अपने हाथों से काम नहीं कर सकता है।

सिक्के के साइज का है,डिवाइज :-

मस्क ने क्लिनिकल ट्रायल डायरेक्टर की भर्ती निकाली है। इसमें वैसे कैंडिडेट की ज्वाइनिंग की जा रही है। जो मिशन को समझते हों और आगे के प्रयोग के लिए इच्छुक और उत्सुक हो कैंडिडेट इनोवेटिव डॉक्टर्स और टॉप इंजीनियर्स के साथ काम करेंगे।

इसके अलावा न्यूरालिंक के पहले क्लिनिकल ट्रायल पार्टिसिपेंट के तौर पर काम करने का भी मौका मिलेगा वहीं एलन मस्क का कहना है कि न्यूरालिंक डिवाइस सिक्के के आकार का है।

यह भी पढ़े   स्वास्थ्य विभाग के द्वारा लिया गया एक बड़ा फैसला, अगर कोई स्कूल का स्टाफ या कोई छात्र कोरोना से संक्रमित पाए जाने पर स्कूल 2 हप्ता के लिए बंद

जिसे स्कल या खोपड़ी में लगाया जा सकता है। यह केवल एक डिवाइज लगाकर ब्रेन और स्पाइन की समस्या को आसानी से हल किया जा सकता है। एलन मस्क ने बताया कि भविष्य में आप मेमोरी को सेव या रिप्ले कर सकते हैं।

साथ ही नई बॉडी या रोबोट बॉडी में भी डाउनलोड किया जा सकता है। यह प्रयोग कितना असरदार होगा, यह इंसान के ट्रायल के बाद ही पता चल सकेगा।

एलन मस्‍क की कंपनी ब्रेन-चिप रिसर्च पर जोर शोर से जुटी है. न्‍यूरालिंक जल्‍द ही इंसानी दिमाग पर परीक्षण शुरू करने की तैयारी कर रहा है। मस्क ने दावा किया है कि छोटी सी ब्रेन चिप इंसान की जिंदगी में कई तरह के बदलाव लेकर आएगी

यह भी पढ़े   CBSE Board 12th Exam Cancel के बाद HBSE हरियाणा ने किया 12वीं बोर्ड एक्जाम को ...

दुनिया के सबसे अमीर इंसान एलन मस्‍क का ब्रेन-चिप रिसर्च वाला स्‍टार्टअप (chip in human brain) न्‍यूरालिंक जल्‍द ही इंसानी परीक्षण शुरू करने की तैयारी कर रहा है।

Conclusion :-

एलॉन मुस्क ने इसके जरिए अल्जाइमर, डिमेंशिया और रीढ़ की हड्डी की चोटों जैसे न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का इलाज करने में मदद करने के लिए मानव मस्तिष्क में एक कंप्यूटर इंटरफेस को प्रत्यारोपित करने का लक्ष्य है।

ये स्टार्टअप टेक्नोलॉजी का यूज करके ह्यूमन-AI सिम्बायोसिस बनाने की कोशिश कर रही है। पिछले महीने एलन मस्‍क ने कहा था कि ह्यूमन पर इसका अर्ली ट्रायल 2022 में शुरू हो सकती है।

Read also :- आज शाम 6 बजे पीएम करेंगे प्रतिमा का अनावरण

Leave a Reply

Your email address will not be published.