• February 7, 2023
yamuna
0 Comments

Yamuna में जलस्तर 204.50 मीटर के खतरे के निशान को पार करने पर बाढ़ की चेतावनी जारी की जाती है। दिल्ली बाढ़ नियंत्रण कक्ष ने सुबह नौ बजे हरियाणा के यमुनानगर जिले के हथिनीकुंड बैराज से 17,827 क्यूसेक पानी छोड़े जाने की जानकारी दी. आमतौर पर हथिनीकुंड बैराज में प्रवाह दर 352 क्यूसेक होती है, लेकिन जलमग्न क्षेत्रों में भारी बारिश के बाद जल प्रवाह बढ़ गया है।

yamuna

Delhi और Yamuna नदी ( (Yamuna River) के तटीय इलाकों में लगातार हो रही बारिश से Yamuna का जलस्तर एक बार फिर बढ़ गया है और रविवार सुबह यह खतरे के निशान 205.33 मीटर से थोड़ा नीचे दर्ज किया गया. अधिकारियों के अनुसार, यमुना के जलमग्न इलाकों के 100 से अधिक परिवारों को कुछ दिनों के लिए ऊंचाई वाले इलाकों में स्थानांतरित कर दिया गया है। भारी बारिश के चलते नदी के किनारे जलस्तर खतरे के निशान 205.33 मीटर को पार करने के बाद दिल्ली प्रशासन ने

यह भी पढ़े   दस्तक दे सकता है ताइवान का यह इलेक्ट्रिक स्कूटर, होगा बहुत कुछ खास

शुक्रवार को बाढ़ की चेतावनी जारी करते हुए संवेदनशील इलाकों से लोगों को निकालने का काम शुरू कर दिया है.

बाढ़ नियंत्रण केंद्र के अनुसार पुराने रेलवे पुल पर सुबह नौ बजे जलस्तर 205.30 मीटर दर्ज किया गया. शुक्रवार को Yamuna का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया था और रात नौ बजे तक यह 205.59 मीटर के स्तर पर पहुंच गया था. शनिवार शाम को जलस्तर 204.89 मीटर रिकॉर्ड किया गया।

बना हुआ है बाढ़ का खतरा

हरियाणा द्वारा शुक्रवार को हथिनीकुंड बैराज से और पानी छोड़े जाने के बाद दिल्ली पुलिस और पूर्वी दिल्ली जिला प्रशासन ने राजधानी में Yamuna के बाढ़ के मैदानों में रहने वाले लोगों को बचाने का काम शुरू कर दिया है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के एक अधिकारी ने कहा, “बाढ़ का खतरा है। हमने विभिन्न क्षेत्रों में नावों को तैनात किया है और संवेदनशील क्षेत्रों में रहने वाले परिवारों को अस्थायी रूप से दिल्ली सरकार के टेंट और आश्रय गृहों में ले जाया जा रहा है।

यह भी पढ़े   डोगरा रेजीमेंट में एलडीसी सहित इन पदों पर निकली भर्ती, जानें चयन प्रक्रिया

डूब वाले क्षेत्रों में भारी वर्षा के बाद पानी का प्रवाह बढ़ा

Yamuna में जलस्तर 204.50 मीटर के खतरे के निशान को पार करने पर बाढ़ की चेतावनी जारी की जाती है। दिल्ली बाढ़ नियंत्रण कक्ष ने सुबह नौ बजे हरियाणा के

जिले के हथिनीकुंड बैराज से 17,827 क्यूसेक पानी छोड़े जाने की जानकारी दी. आमतौर पर हथिनीकुंड बैराज में प्रवाह दर 352 क्यूसेक होती है, लेकिन जलमग्न क्षेत्रों में भारी बारिश के बाद जल प्रवाह बढ़ गया है।

मंगलवार को नदी में प्रवाह 1.60 लाख क्यूसेक तक पहुंच गया था, जो इस साल अब तक का सबसे अधिक है। बैराज से छोड़े गए पानी को राजधानी पहुंचने में आमतौर पर दो से तीन दिन लगते हैं। एक क्यूसेक 28.32 लीटर प्रति सेकेंड के बराबर होता है।

दिल्‍ली में कब-कब बढ़ा Yamuna का खतरा

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि अगले कुछ दिनों में उत्तर पश्चिम भारत में मध्यम से भारी बारिश होने का अनुमान है, जिससे इस क्षेत्र से बहने वाली नदियों का जलस्तर बढ़ने की संभावना है. 2019 में 18-19 अगस्त को प्रवाह दर 8.28 लाख क्यूसेक तक पहुंच गई थी और Yamuna का जलस्तर 205.33 मीटर के खतरे के निशान को पार कर 206.60 मीटर तक पहुंच गया था. 1978 में, नदी का जल स्तर 207.49 मीटर के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। 2013 में जलस्तर 207.32 मीटर तक पहुंच गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *