• September 26, 2022
पुल
0 Comments

अभी हाल ही में मिली जानकारी के अनुसार राजधानी दिल्ली के खाते में जल्द 17वां पुल आने वाला है, जिस पर रैपिड ट्रेन दौड़ेगी। 82 किमी लंबे दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (RRTS) कॉरिडोर पर यह पुल सराय काले खां और न्यू अशोक नगर स्टेशन को जोड़ने के लिए अब तैयार किया जा रहा है।

अब दिल्ली में आने वाले इस कारिडोर के 14 किमी के हिस्से में निर्माण कार्य तेजी से जारी कर दिया गया है । जैसा हम जानते है इस सेक्शन में जंगपुरा, सराय काले खां, न्यू अशोक नगर और आनंद विहार चार स्टेशन हैं। इनमें जंगपुरा, सराय काले खां और न्यू अशोक नगर एलिवेटेड स्टेशन हैं, और आनंद विहार अंडरग्राउंड स्टेशन है।

यह भी पढ़े   भारतीय रेलवे के ये फैक्ट्स जानकर चौक जाएंगे आप
पुल
पुल

यमुना नदी पर तेजी से बन रहा पुल जाने 

अभी बात करे सराय काले खां और न्यू अशोक नगर स्टेशन को जोड़ने के लिए ही यमुना नदी पर तेजी से एक पुल बनाया जा रहा है। यमुना पर आरआरटीएस का यह पुल डीएनडी फ्लाईवे के समानान्तर बनाया जा रहा है।

नए कॉरिडोर से सराय काले खां और न्यू अशोक नगर जुड़ेंगे 

नए कॉरिडोर इसके लिए वैल फाउंडेशन का निर्माण कार्य भी तेजी से जारी है। यह पुल एक ओर सराय काले खां आरआरटीएस स्टेशन के एलिवेटेड वायाडक्ट से कनेक्ट होगा, जबकि हम अगर बात करे दूसरी ओर आरआरटीएस कारिडोर पर न्यू अशोक नगर आरआरटीएस स्टेशन के वायाडक्ट से जुड़ेगा।

यह भी पढ़े   Gold के दाम में आई भारी गिरावट – मार्केट में ₹3700 सस्ता हुआ सोना, जानें – 10 ग्राम की नई कीमत..

एक किमी से ज्यादा होगी लंबाई जाने 

एनसीआर परिवहन निगम के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने यह बताया कि इस पुल की लंबाई लगभग 1.3 किमी होगी। पुल का लगभग 626 मीटर का हिसा यमुना पर होगा, जबकि बाकी हिस्सा दोनों ओर खादर क्षेत्र में होगा।

पुल में होंगे 32 पिलर और दो पिलरों के बीच में 44 मीटर का दायरा

आपको बता दे की पुल में 32 पिलर होंगे और दो पिलरों के बीच में 44 मीटर का दायरा होगा। और इस पुल का निर्माण लांचिंग गैंट्री (तारिणी) की मदद से सेग्मेंट को जोड़कर बखूबी किया जा रहा है। यह पुल आरआरटीएस ट्रेनों को 160 किमी प्रति घंटा की गति प्रदान करने में सक्षम होगा यह इससे ज्यादा गति को सहन करने योग्य होगा।

यह भी पढ़े   PM Kisan yojana : पीएम किसान योजना में अब होने वाला है ये बड़ा बदलाव, जानिये 12 करोड़ किसान कैसे हो सकते है इससे प्रभावित

आपको बता  दे की दिल्ली के आर्थिक सर्वेक्षण 2021 के मुताबिक यमुना नदी का 54 किलोमीटर हिस्सा राजधानी से होकर गुजरता है और  इस हिस्से में 16 पुल पहले से बने हुए हैं। इनमें सड़क यातायात, रेलवे और मेट्रो के लिए बने सभी पुल शामिल हैं। काम को तेजी से पूरा करने के कयास लगाए जा रहे है.

Author

newshutrewari@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.