हरियाणा के किसानों को दिए जा रहे है 4 हजार रुपये प्रति एकड़, और असंगठित कर्मकारों को 5 हजार रुपये की मदद का एलान

हरियाणा सरकार ने हरियाणा के किसानों के लिए एक सुनहरा अवसर लाए है। जिसमे हर किसान को प्रति एकड़ के बदले दिए जाएंगे 4 हजार रुपये। इसके बदले किसानों को अपने खेतों में अगनी होगी तिलहनी की फसलें।

हरियाणा सरकार ने किसानों से कहा है वे धान और बाजरे के फसल के बजाय तिलहनी जैसे कि अरंड, मूंगफली, डाल की खेती जैसे कि मूंग, मटर, अरहर जैसे खरीफ फसलों की बुआई करें।

असंगठित कर्मकारों को 5-5 हजार रुपये की मदद का एलान
Kisan

इससे यह फायदा होगा कि हरियाणा में खाद्य तेल की उपलब्धि भी बने रहे और इसके साथ-साथ किसानों के खेत की उर्वरा शक्ति भी बनी रहेगी।

किस तरह आपको 4 हजार रुपये मिलेंगे?

इसके लिए आपको अपने खेत में तिलहनी जैसे कि अरंड, मूंगफली, डाल की खेती जैसे कि मूंग, मटर, अरहर जैसे खरीफ फसलों की बुआई करनी होगी।

यह भी पढ़े   Post Office Scheme : महीने का 1500 रुपये निवेश करके कमा सकते है 35 लाख रुपये, जानिए उस योजना के बारें में

अगर आप ऊपर दी गई फसलों की बुआई करते है तभी आप इस योजना का लाभ उठाया सकते है।

इस योजना में भाग लेने के लिउए “मेरी फसल मेरा ब्यौरा” पोर्टल पर विज़िट करें। और आपने आप को रजिस्टर करवा लें।

इसका फॉर्म भरने का लास्ट डेट 31 जुलाई 2021 तक ही है। इसलिए आप इसे जल्द से जल्द रजिस्टर करवा लें।

असंगठित कर्मकारों को 5-5 हजार रुपये की मदद का एलान

और इसके साथ में ही हरियाणा सरकार ने दूसरी लहर से ग्रसित हुए असंगठित कर्मकारों को भी 5-5 हजार रुपये मदद देने की एलान किया है।

अगर आप भी असंगठित कर्मकारों के श्रेणी में आते है तो इस योजना का लाभ उठा सकते है। इसके लिए आप असंगठित कर्मकारों के पोर्टल (https://unorgworker.edisha.gov.in) पर विज़िट करके रजिस्टर कर लें। रजिस्टर प्रक्रिया 18 जून से ही शुरू हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.