• December 3, 2022
a-man-got-promotions-till-dc-assistant-on-the-base-of-fake-certificate-of-10th-fraud-exposed-after-29-years-in-the-investigation
0 Comments

Dc सहायक बने फर्जी 10वीं के सर्टिफिकेट के साथ

29 साल बाद उजागर हुआ फर्जीवाड़ा; 2017 में सेवानिवृत्त होकर पेंशन ले रहा था एसडीएम की जांच में फंसा

a-man-got-promotions-till-dc-assistant-on-the-base-of-fake-certificate-of-10th-fraud-exposed-after-29-years-in-the-investigation

हरियाणा के हिसार जिले में 29 साल बाद इस तरह की धोखाधड़ी का पर्दाफाश हुआ है, जिसे जानकर पूरे डीसी विभाग और पुलिस के होश उड़ गए. उपायुक्त कार्यालय का सेवक फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर डीसी का सहायक बन गया और अब सरकार से सेवानिवृत्त हो रहा है और सहायक के पद के सभी धन, भत्ते और पेंशन का लाभ उठा रहा है।

प्रशासन तक पहुंची शिकायत पर एसडीएम ने इसकी जांच कराई और फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ. जांच समिति द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर डीसी प्रियंका सोनी ने आरोपी सेवानिवृत्त सहायक गंगा बिशन के खिलाफ आईपीसी 420, 467, 468, 471 के तहत मामला दर्ज किया है. वहीं, पेंशन और भत्तों पर भी रोक लगा दी गई है.

यह भी पढ़े   हरियाणा में जल्दी ही 400 और रोडवेज बसें शामिल होने वाली है, इन 13 डिपो को बस दिए जाएंगी

1992 में सेवादार से बना था क्लर्क

आजाद नगर के अधिकारी कॉलोनी निवासी गंगा बिशन उपायुक्त कार्यालय हिसार में सेवक के पद पर कार्यरत थे. गंगा बिशन ने 1992 में 10वीं पास प्रमाण पत्र जमा कर लिपिक के पद पर पदोन्नति ली। इसके बाद 14 जनवरी 2014 को उन्होंने लिपिक के पद से सहायक के पद पर पदोन्नति ली और साढ़े तीन वर्ष तक सहायक के रूप में नियुक्त होने के बाद 31 जुलाई 2017 को सेवानिवृत्त हुए। सेवानिवृत्त होने के बाद गंगा बिशन ने सरकार से सारी राशि, भत्ते ले लिए और सहायक पद के लिए पेंशन भी लेने लगे।

यह भी पढ़े   गोल्ड बॉय नीरज चोपड़ा की गोल्ड मेडल जितने की पूरी कहानी, पिछले पाँच वर्षों में 7 करोड़ रुपये खर्च किये

कमिश्नर को भेजी शिकायत पर हुई जांच

रेंज कमिश्नर को गंगा बिशन से फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर प्रमोशन लेने की शिकायत मिली थी, जिसकी जांच एसडीएम को सौंपी गई है. जांच में हरियाणा बोर्ड ने गंगा बिशन के सर्टिफिकेट को फर्जी करार दिया. इसके बाद गंगा बिशन को दो बार इसका जवाब देने का मौका दिया गया, लेकिन उन्होंने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया।

फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर पदोन्नति पाने के मामले में एसडीएम ने पूरी जांच रिपोर्ट हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग को भेज दी है. इसके अलावा गंगा बिशन को पुन: फीडर के पद पर पदावनत करने तथा पेंशन राशि में 25 प्रतिशत की कटौती 10 वर्ष के लिए करने के आदेश जारी किए गए हैं फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर प्रोन्नति लेने पर उपायुक्त ने पुलिस में शिकायत देकर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.