• October 6, 2022
tyres3
0 Comments

ट्यूबलेस टायर की तेजी से मार्केट में मांग बढ़ रही है। इन दिनों अधिकतर गाड़ियों और बाइक्स में ट्यूबलेस टायर का ही इस्तेमाल किया जा रहा है। जैसा कि नाम से ही पता लग रहा है कि ट्यूबलेस टायर में ट्यूब नहीं होती है। यह दिखने में एक पारंपरिक टायर जैसा ही होता है। टायर को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि उसमें हवा अपने आप समा सके। पंक्चर होने की स्थिति में इसमें से हवा भी धीरे-धीरे बाहर निकलती है। साथ ही बिना टायर निकाले ही आप पंक्चर बनवा सकते हैं। इतने फायदे होने के साथ ट्यूबलेस टायर के नुकसान भी बहुत होते हैं। अगर आप भी अपनी कार या बाइक में यह टायर लगवाने का विचार कर रहे थे, तो पहले इसके 3 नुकसान के बारें में जान लीजिए-

यह भी पढ़े   हरियाणा के लोगों की बदली किस्मत , जानिए मारुति सुजुकी में किसे और कैसे मिलेगा रोजगार

पारंपरिक टायर से महंगा

tyres1

ट्यूबलेस टायर पारंपरिक टायरों के मुकाबले एक्सपेंसिव होते हैं। इनका मूल्य ब्रांड और साइज के हिसाब से अलग-अलग होती है। हालांकि, कीमत के साथ इसकी क्वालिटी भी अच्छी होती जाती है, ऐसे में आप कम पैसो के चक्कर में कोई खराब ट्यूबलेस टायर न खरीद लेना।

फिट करना मुश्किल

tyres2

ट्यूबलेस टायरों को फिट करने या निकलाने के लिए एक्सपर्ट की जरुरत होती है। ट्यूबलेस टायर काफी मजबूत होते हैं, लेकिन कभी न कभी तो इन्हें चेंज करने की आवश्यकता होगी। जो इसके बारे में अधिक नहीं जानते वह टायर बदलने के चक्कर में रिम को नुकसान पहुंचा सकते हैं। वहीं पारंपरिक टायर को बदलने का तरीका बेहद ईजी होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.